क्राइमराष्ट्रीय

निर्भया के दोषी विनय ने याचिका में दी ऐसी दलीलें, कोर्ट ने माना तो रुक जाएगी फांसी

Nirbhaya Case निर्भया के दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में दया याचिका खारिज होने के खिलाफ याचिका दायर की है। इस केस में उसने कुछ ऐसी दलीलें दी हैं जो किसी भी दोषी की फांसी से पहले उसे रोकने की बहुत बड़ी वजह होती है। उसने अपने बारे में अदालत में कुछ ऐसा बताया है कि अगर अदालत ने वो बातें मान लीं तो विनय की फांसी टलना लगभग तय है।

निर्भया के चारों दोषियों की फांसी के लिए डेथ वारंट जारी नहीं किया जा सका। इस मामले में सुनवाई सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी गई है। इस मामले में दोषी पवन गुप्ता के वकील को नियुक्त करते हुए इस मामले की तैयारी के लिए कुछ वक्त दिया है। इस मामले में पवन एकमात्र दोषी है, जिसने अब तक क्यूरेटिव पिटीशन दायर नहीं की है। इस मामले की सुनवाई में हो रही देरी पर अदालत ने दिल्ली विधिक सेवा प्राधिकरण(डीएलएसए)को पवन गुप्ता को वकील मुहैया करवाने के लिए अधिवक्ताओं की सूची सौंपी थी। लेकिन गुप्ता ने सूची में तय वकीलों की सेवाएं लेने से इंकार कर दिया था।

विनय शर्मा की याचिका पर करीब दो घंटे तक चली सुनवाई के बाद अदालत ने कहा कि शुक्रवार दोपहर बाद दो बजे इस मामले में आदेश सुनाया जाएगा। विनय ने अपनी याचिका में कहा है कि जेल में ‘कथित यातनाओं और दुर्व्यवहार की वजह से वह मानसिक रूप से अस्वस्थ हो गया है। केंद्र और दिल्ली सरकार की ओर से सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने अधिवक्ता एके सिंह की दलीलों का विरोध करते हुए सभी संबंधित रिकॉर्ड का अवलोकन करने के बाद कहा कि विनय की दया याचिका खारिज करने में सभी कानूनी प्रक्रियाओं का पालन किया गया है।

Share With Your Friends If you Loved it!
  •  
  •  
  •  
  •