आरोग्यमहाराष्ट्र

लॉकडाउन : ड्यूटी पर तैनात महिला पुलिसकर्मियों को कई समस्याओं का करना पड़ रहा सामना

Lockdown Women policemen: अगर वॉशरूम जाना हो तो या तो नजदीकी थाने या तो आसपास के किसी स्कूल, होटल, पुलिस थाने में जाना पड़ता है। घर से ही जितना पानी लाते है, उतना ही है। पीरियड्स के समय तो बहुत ज्यादा दिक्कत होती है, ऐसे समय में देर तक खड़े रहना और फ्रेश होने के लिए पुलिस थाने जाना। रात में 10 बजे घर पहुंचने के बाद गाड़ी धोना, मोबाइल क्लीन करना, जूतो को धोना, वर्दी धोना इन सबमें 11 बज जाते है। फिर खाना बनाना और सोना। इस तरह सोने में 1 बज जाता है और सुबह 6 बजे उठकर खाना बनाकर ड्यूटी पर तैनात हो जाती हैं। ऐसे में खुद को संक्रमण से बचाना और दूसरो से घरों में रहने की अपील करना। वे नागरिकों की सुरक्षा के लिए 12-12 घंटे ड्यूटी कर रहीं हैं।

कोरोना महामारी के संक्रमण के कारण शहर के 56 स्थानों पर नाकाबंदी की गई है। जिसमें लगभग 300 महिला पुलिसकर्मी ड्यूटी पर तैनात है। इसके साथ ही कई महिला पुलिसकर्मी हॉट-स्पॉट इलाको में भी तैनात है। महामारी के इस दौर में महिला पुलिसकर्मी घर और ड्यूटी की जिम्मेदारी संभाल कर अनूठी मिसाल पेश कर रही हैं।

2 किलोमीटर पुलिस थाने जाना पड़ता है

महिला पुलिसकर्मी ने बताया कि हमारी ड्यूटी स्थल से पुलिस स्टेशन 2 किलोमीटर दूर है। सुबह 9 बजे से रात 9 बजे तक ड्यटी है। अगर वॉश रूम जाना हो, तो 2 किलोमीटर थाने तक जाना पड़ता है। आसपास कोई व्यवस्था नहीं होने से दिक्कत होती है। कोरोना संक्रमण के कारण सभी डरे हुए है, ऐसे में किसी के घर भी जाना ठीक नहीं है। ऐसे में जनता से यही गुजारिश है कि हम आपकी सुरक्षा के लिए तैनात है, इसलिए बिना कारण कोई घर से बाहर ना निकले। कोरोना महामारी से लड़ने के लिए घर पर ही सुरक्षित रहें। घर के लोगों को भी चिंता लगी रहती है

दोस्त के रिश्तेदार की मदद मिली

हॉटस्पॉट इलाके में ड्यूटी में तैनात एक महिला पुलिसकर्मी ने बताया कि 12 घंटे ड्यूटी के दौरान बहुत सारी समस्याएं भी आती हैं। पिछले कुछ दिनों पहले माहवारी आई थी, ऐसे समय में बहुत दिक्कत हो रही थी। हाइजीन का भी ध्यान रखना पड़ता है। पीरियड्स के समय ना तो ज्यादा देर तक खड़ा रहा जाता है और ना ही ज्यादा देर बैठ सकते हैं। फ्रेश होने की भी समस्या थी। पास के एक होटल में जाकर फ्रेश होते थे।

एक अन्य महिला पुलिस कर्मी ने बताया कि जिस क्षेत्र में ड्यूटी लगी है, उसके पास एक स्कूल है। ज्यादा देर तक यूरिन रोक नहीं सकती।  इसलिए मै पास के स्कूल में ही जाती हूं। चार महिला पुलिस है, सभी की आपसी अंडरस्टेंडिंग है, इसलिए कोई प्रॉबलम नहीं होती। ड्यूटी तो करनी है, ऐसे में खुद ही अपनी समस्या को सुलझाना होता है। पुलिस कर्मियो का काम जनता की रक्षा है, इसलिए उनकी सुरक्षा कर रहे हैं। 

Share With Your Friends If you Loved it!
  •  
  •  
  •  
  •