दुनियापॉलिटिक्स

चीन पर हर पल रखी जा रही नजर, लद्दाख की पैंगोंग झील पर निगरानी कर रहे अपाचे हेलिकॉप्टर

चीन से तनातनी के बीच गलवां घाटी के बाद तनाव के दूसरे मुख्य केंद्र पैंगोंग झील में कड़ी निगरानी की जा रही है। झील के साथ लगतीं पांच पहाड़ियों (फिंगर-4 से फिंगर-8) के आसपास दोनों ओर सेना का भारी जमावड़ा है। एलएसी पार चीन के सैनिक बोट से गश्त करते देखे गए थे। इस पार सेना ने बोट के साथ अपाचे हेलिकॉप्टर को भी उतार दिया है।

ग्रामीणों के अनुसार झील बहुत बड़ी है। एलएसी के करीबी इलाकों तक लोगों की पहुंच नहीं है। सड़क से यह दूरी 50 से 70 किमी तक है। क्षेत्र के एक प्रतिनिधि ने बताया कि क्षेत्र में ब्लैकआउट है। लड़ाकू विमान की आवाज और सर्चलाइट से निगरानी की गतिविधियां आसानी से महसूस हो रही हैं। पैंगोंग झील में एलएसी पर निगरानी के वीडियो भी वायरल होने लगे हैं। एक स्पीड बोट से शूट किए गए वीडियो में झील पर दो अपाचे विमान पानी की सतह के बेहद नजदीक उड़ते नजर आ रहे हैं। दो अन्य वीडियो में सैन्य अधिकारी स्पीड बोट पर निगरानी करते नजर आ रहे हैं। तीसरे वीडियो में दो स्पीड बोट रफ्तार में चलती दिखाई दे रही हैं।

नाभीढांग से लेकर लिपुलेख तक भारतीय सुरक्षा बल विशेष चौकसी बरत रहे हैं। लिपुलेख में 16 हजार फुट से अधिक की ऊंचाई पर दिन रात भारतीय सुरक्षा बलों के जवान चौबीसों घंटे गश्त कर रहे हैं। भारतीय अर्द्धसैनिक बल व भारतीय सेना ने नाभीढ़ांग से लिपुपास तक के आठ किमी इलाके को छावनी में बदल दिया है। चीन की ओर से किसी भी तरह की हरकत होने की स्थिति का मुकाबला करने के लिए भारतीय सुरक्षा बल चौबीस घंटे हाई अलर्ट पर हैं। लिपुपास में बारिश होने से तापमान में लगातार गिरावट आ रही है। इन विपरीत परिस्थितियों में भी जवान चीन सीमा पर मुस्तैदी से डटे हैं।

Share With Your Friends If you Loved it!
  •  
  •  
  •  
  •